Go to ...
RSS Feed

Posts by: guest author

सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी महाविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग द्वारा नोटबंदी के विषय के ऊपर एक दिवसीय सेमिनार

सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी महाविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग द्वारा नोटबंदी के विषय के ऊपर एक दिवसीय सेमिनार कराया गया जिसके मुख्य वक्ता सरदार वल्लभ भाई पटेल पुलिस यूनिवर्सिटी के विजयसिंह थे सेमिनार का विषय भारत में विमुद्रीकरण पर था नोटबंदी का उद्देश्य काले धन को रोकने , डिजिटल भुगतान बढाना, टैक्स की चोरी रोकना पारदर्शिता

कला महाविद्यालय में अग्रिम द्वार गेट खुलवाने के लिए अधिष्ठाता महोदय व रजिस्टर को ज्ञापन सौंपा गया

कला महाविद्यालय में पूर्व महासचिव हिमांशु जैन और पूर्व महासचिव MLSU प्रफुल्ल वर्मा के नेतृत्व में कला महाविद्यालय का अग्रिम द्वार गेट खुलवाने के लिए अधिष्ठाता महोदय व रजिस्टर साहब हिम्मत सिंह जी को ज्ञापन सौंपा गया!

पहले ही दिन छात्रहितों के लिए तत्पर M.A के 1 सेमस्टर के सभी विषय में रिक्त सीटों पर वापस प्रवेश प्रारंभ करवाने हेतु डीन महोदया को ज्ञापन दिया

पहले ही दिन छात्रहितों के लिए तत्पर M.A के 1 सेमस्टर के सभी विषय में रिक्त सीटों पर वापस प्रवेश प्रारंभ करवाने हेतु डीन महोदया को ज्ञापन दिया गया। हिमांशु जैन,पूर्व महासचिव कला महाविध्यालय प्रफुल वर्मा, पूर्व छात्र संघ महासचिव M.L.S.U ,गौरव वर्मा ,सिद्धार्थ खत्री,अर्पित जोशी ,आकाश श्रीमाली,राहुल टाँक,अभिजीत सिंह ,जितेंद्र मेघवाल ,हितेश कलाल,अभिषेक सोनी

सुविवि मतदाता जन जागरण अभियान प्रदेश मे पहल करने वाला पहला विश्वविद्यालय

मोहनलाल सुखाडिया विश्वविधालय मे पत्रकारिता व अन्य विद्यार्थी द्वारा कैंपस मे मतदाता जागरण अभियान चलाया जा रहा है पत्रकारिता के विद्यार्थी का कहना है कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा सतम्भ है इस लिए उनका नैतिक दायित्व बनता है कि आगमी छात्र संघ चुनावो मे जन जागरण अभियान चलाये लोकतंत्र को सशक्त करे मतदाता जागरण अभियान

The Monsoon Palace”Sajjan Garh”

The Monsoon Palace, also known as the Sajjan Garh Palace, is a hilltop palatial residence in the city of Udaipur Rajasthan in India, overlooking the Fatehsagar lake. It is named Sajjangarh after Maharana Sajjan Singh (1874–1884) of the Mewar Dynasty, who built it in 1884. The palace offers a panoramic view of the city’s lakes,

रक्षा बंधन 2017- विशेष

अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिये हर बहन रक्षा बंधन के दिन का इंतजार करती है। श्रावण मास की पूर्णिमा को यह पर्व मनाया जाता है। इस पर्व को मनाने के पिछे कहानियां हैं। यदि इसकी शुरुआत के बारे में देखें तो यह भाई-बहन का त्यौहार नहीं बल्कि विजय प्राप्ति के किया

Older Posts››